श्री सदगुरु दत्त धार्मिक एवं पारमार्थिक ट्रस्ट

प्रेस विज्ञप्ति

11,000 पोधे रोपित करने के संकल्प के साथ वृक्षारोपण अभियान प्रारम्भ 05-07-2015

इंदौर: परम पूज्य श्री भय्यूजी महाराज द्वारा पर्यावरण संरक्षण हेतु चलाए 'सूर्योदय वसु स्वर्ग वृक्षारोपणयोजना अंतर्गत श्री सदगुरू दत्त धार्मिक एवं पारमार्थिक ट्रस्ट द्वारा 3 जुलाई से सघन पौधरोपण अभियान की शुरुआत की गई । अभियान के अंतर्गत आज कनकेश्वरी देवी शा. मा. विद्यालय परदेशीपुरातेजाजी महाराज मंदिर सुखलिया शासकीय माध्यमिक स्कूल निरंजनपुरगणेश मंदिर खजराना में ट्रस्ट के सेवाधारियों द्वारा पौधे लगाये गए। पौधारोपण कार्यक्रम में आज प्रमुख रूप से खजराना गणेश मंदिर के सदस्य श्री प्रकाश दुबेसुनील पाटीदारआई डी ए इंजीनीयर प्रदीप व्यास एवं सूर्योदय आश्रम के श्री राजेंद्र उपाध्यायरोशन देशमुखनेतराम पटेलमहावीर पवारसंजय मिश्रा मुख्यरूप से उपस्थित थे। पौधारोपण अभियान के अंतर्गत इस वर्ष संस्था द्वारा शहर एवं आसपास के क्षेत्रों में विभिन्न प्रजातियों के 11,000 पोधे रोपित किये जायेंगे ।

  

ट्रस्ट के चेयरमैन श्री शरद आर पवार ने जानकारी देते हुए कहा कि ट्रस्ट पर्यावरण संरक्षण हेतु प्रति वर्ष जुलाई के महीने में वसु स्वर्ग  वृक्षारोपण योजना के अंतर्गत पौधारोपण अभियान चलाता है। वर्ष 2000 से प्रारम्भ इस योजना के अंतर्गत संस्था द्वारा अब तक मध्य प्रदेश एवं महाराष्ट्र के विभिन्न क्षेत्रों मैं 19,47,684 पौधे रोपित किये गए हैं । .

 

उन्होंने  कहा कि राष्ट्र संत श्री भय्यूजी महाराज का सतत प्रयास रहा है कि शुद्ध जलशुद्ध वायु से प्रकृति को प्रदुषण मुक्त कैसे रखा जाए और यह तभी संभव होगा जब हम अधिक से अधिक पोधे रोपित कर वन संवर्धन करें।  इसी संकल्प के साथ भय्यूजी महाराज ट्रस्ट के माध्यम से हरित ज्ञान,हरित आरोग्यहरित तीर्थ योजना चला रहे हैं। प्रकृति ही परमात्मा है जिसने प्रकृति को आत्मसात कर लिया उसने परमात्मा को आत्मसात कर लिया। प्रकृति का सौंदर्य व शांति हरियाली से हे वनो से हे।  गुरुदेव के इसी विचार को लेकर सूर्योदय वसु स्वर्ग योजना’ का प्रारंभ किया गया ।


श्री पवार ने कहा कि महासिद्ध पीठ ऋषि संकुल खामगाव भूमि पहले बंजर अवस्था में थी आज वहाँ चारो और हरियाली है। संस्था द्वारा पितरों के स्मरण हेतु पितृ पक्ष पर भी पौधे रोपण किये जाते हैं। ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले छात्रों को शैक्षणिक सहायता के साथ साथ दस दस फलदार पोधे वितरित किये जाते हे जिसे वे रोपित कर फलो को बेचकर अपने शैक्षणिक खर्च का वहन कर सके । प्रकृति के प्रति उन्हें प्रेम हो और वे स्वावलम्बी बन सके । भय्यूजी महाराज ने विगत वर्षो से पारम्परिक नियम गुरु पाद्य पूजन को त्यागकर वृक्षों को जल चढ़ाने एवं पौधा रोपण के लिए सन्देश दिया ।

© 2017 All Right Reserved