श्री सदगुरु दत्त धार्मिक एवं पारमार्थिक ट्रस्ट

प्रेस विज्ञप्ति

स्व. माधवी देशमुख के स्मारक पूजन समारोह में पार्श्व गायिका अनुराधा पोडवाल सहित अनेकों गणमान्य नेता उपस्थित हुए 28-12-2015

भय्यूजी महाराज की धर्मपत्नी स्व. माधवी देशमुख की स्मृति में अनेकों पारमार्थिक, सामाजिक कार्यों का हुआ श्रीगणेश  शुजालपुर: प. पू. श्री भय्यूजी महाराज की धर्मपत्नी स्व. सौ. माधवी देशमुख की जयंती के उपलक्ष्य में स्मारक (छतरी) पूजन समारोह का आयोजन भय्यूजी महाराज की जन्म स्थली ग्राम अख्त्यारपुर तहसील शुजालपुर जिला शाजापुर (म.प्र.) में "सूर्योदय फ़ार्म"  'बापू स्मारक' के समीप 28 दिसंबर 2015, सोमवार को संपन्न हुआ। इस अवसर पर सर्वप्रथम स्व. सौ. माधवी ताई देशमुख को विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से केंद्रीय सिंहस्थ समिति अध्यक्ष श्री माखन सिंह चौहान, देश की जानी मानी गायिका श्रीमती अनुराधा पौडवाल, सांसद उदय प्रताप सिंह, कुलपति आर एस कुरील, कलकी महाराज (पूना), पूर्व विधायक नेमीचंद जैन, पूर्व विधायक फूलसिंह मेवाड़ा, साधना न्यूज़ हेड एम के तिवारी, नगर पंचायत अध्यक्ष तेजसिंह राजपूत, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती बबीता परमार, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष बागमल जैन अतिथिगण उपस्थित थे। 


कार्यक्रम की शुरुआत में सुबह 11 बजे प.पू. भय्यूजी महाराज के हाथों स्मारक पूजन एवं पूर्णाहुति का कार्यक्रम संपन्न हुआ। तत्पश्चात दीप प्रज्वलन, अतिथियों का स्वागत एवं परिचय हुआ। इसके पश्चात श्री सदगुरु दत्त धार्मिक एवं पारमार्थिक ट्रस्ट के चेयरमैन श्री शरद आर पवार ने शाजापुर जिले में संस्था द्वारा चलाए जा रहे सामाजिक एवं पारमार्थिक कार्यों की जानकारी दी। तत्पचात संस्था द्वारा प्रकाशित साहित्य का अतिथियों द्वारा विमोचन किया गया, जिसमें संस्था की पत्रिका -- 'धर्मादित्य टाइम्स' वार्षिक विशेषांक, भय्यूजी महाराज द्वारा लिखित चार पुस्तकें- भावना के मोती, सूर्योदय निसर्ग, सहज आरोग्य, नैसर्गिकता साथ ही वार्षिक दिग्दर्शिका कैलेंडर का लोकार्पण हुआ।  


इस अवसर पर गायिका श्रीमती अनुराधा पौडवाल ने 'धीरे धीरे से मेरी जिंदगी में आना' गीत गुनगुनाकर श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि माधवी ताई का निधन पुरे गुरु परिवार के लिए एक बड़ी क्षति है, ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें। उन्होंने कहा कि जीवन में सामजिक कार्य करने चाहिए। सामजिक कार्यों से आत्मसंतुष्टि मिलती है। केंद्रीय सिंहस्थ समिति के अध्यक्ष श्री माखन सिंह चौहान ने अपने उद्बोधन में कहा कि कई बार हम अपने सुख में ज्यादा तल्लीन होते है, लेकिन जब हम दूसरों के दुखों को देखते है तो हमें उसके दुःख का अहसास नहीं होता है। जिंदगी तो पशु पक्षी भी जीते है सही में मानव वो है जो दूसरों के दुःखों को समझे। हमारे बीच में उपास्थित राष्ट्रीय संत भय्यूजी महाराज के द्वारा मानवीय सेवा को अपना आधार बनाया गया है। जिसका परिणाम है कि वे गरीब परिवारो के लोगों के लिए समर्पित रहते है। भय्यूजी महाराज द्वारा किये जा रहे सामाजिक, पारमार्थिक कार्यो की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि वे स्वयं भी यथाशक्ति उनके कार्यों में सहयोग प्रदान करेंगे। साथ ही उज्जैन सिंहस्थ के लिए उन्होंने भय्यूजी महाराज को आमंत्रित किया। इस दौरान सांसद उदय प्रताप सिंह, कुलपति आर एस कुरील सहित अन्य लोगों ने श्रद्धांजलि दी। 


संस्था द्वारा प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष `शीत ऋतु मानवता सेवा अभियान' का शुभारंभ भी आज से हुआ, जिसके अंतर्गत निर्धनों को 1500 कंबल वितरित किये  गए। श्री पवार ने कहा कि इस वर्ष शीत ऋतू में संस्था द्वारा 15,000 कंबलों के वितरण का लक्ष्य रखा गया है। 


तत्पश्चात महाप्रसादी वितरण हुआ। जिसमे 2000 से अधिक लोगो ने महापप्रसादी ग्रहण की। इस अवसर पर बड़ी संख्या में स्थानीय तथा बाहर से पधारे हज़ारों लोग यहाँ पर उपस्थित थे। इस आयोजन में इंदौर, शुजालपुर, शाजापुर, आष्टा के आलावा महाराष्ट्र से अनेकों गुरुबंधु सम्मिलित हुए। कार्यक्रम का संचालन श्याम मनावत के द्वारा किया गया। 


इसके पूर्व जब भय्यूजी महाराज यहाँ पर पहुंचे तब स्थानीय विश्राम गृह पर विधायक जसवंत सिंह हाड़ा, भाजपा जिलाध्यक्ष नरेंद्र सिंह बैस, पूर्व विधायक नेमीचंद जैन, डॉ विजय सिंह खिची आदि ने उनसे भेंट की। 


ज्ञात हो भय्यूजी महाराज का पैतृक ग्राम अख्त्यारपुर एवं शुजालपुर में संस्था द्वारा वर्ष 2013 से अनेकों सामाजिक एवं पारमार्थिक कार्य किये जा रहे हैं। 'जल संधारण एवं जल संवर्धन' योजना अंतर्गत अभी तक गाँव में किसानो के लिए संस्था द्वारा 22 तालाब बनवाए गए। पिछले वर्ष 'शीतऋतु मानवता सेवा अभियान' के अंतर्गत 5000 कम्बल निर्धन लोगों को वितरित किए गए एवं 1100 बच्चों को शैक्षणिक सामग्री वितरित की गई। इसी तरह 'जीवदया अभियान' के अंतर्गत, पक्षियों के दाना पानी के लिए पंद्रह हज़ार मिटटी के सकोरे वितरित किये गए। पिछले वर्ष सिंटेक्स की 2000 लि. छमता वाली 100 पानी की टंकियां ग्राम पंचायतो एवं मंदिर, मज्जिद, स्कूल और सार्वजनिक स्थलों हेतु वितरित की गई। मज्जिद का जीर्णोद्धार किया गया। 'कारागृह में कंप्यूटर केंद्र और पुस्तकालय योजना' के अंतर्गत जिल्हा जेल शाजापुर में दो कंप्यूटर और 1000 पुस्तकें दी गई। संविधान जागरण के अंतर्गत शुजालपुर और कालापीपल में संविधान की 1500 पुस्तकें वितरित की गई और संविधान की परीक्षा ली गई।


सादर प्रकाशनार्थ। 


तुषार पाटिल (ट्रस्टी)


श्री सद्गुरु दत्त धार्मिक एवं पारमार्थिक ट्रस्ट, इंदौर

© 2017 All Right Reserved