श्री सदगुरु दत्त धार्मिक एवं पारमार्थिक ट्रस्ट

सूर्योदय धरतीपुत्र ज्ञान प्रबोधिनी

सन : 30-11-2008 स्थान : तोरनोद, जिला धार, मध्यप्रदेश


मूल भावना – हम एक विकासशील देश हैं | यदि हमें हमारे देश का सर्वांगीण विकास करना है तो समाज व देश के अंतिम व्यक्ति तक के लिए शिक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करना होगी, विशेषकर देश के सभी बच्चों, जो की देश के वास्तविक भविष्य है ।



हमारे देश की सबसे अधिक जनसंख्या कृषि से जुड़ी हुई है, और उसके बारे में सबसे बड़ा वर्ग मजदूरों का है | अपनी कमज़ोर आर्थिक एवं पारिवारिक स्थिति के चलते उनके घरों में बच्चों की शिक्षा की अनिवार्यता न के बराबर होती है | कृषि की बुरी स्थिति व बेरोजगारी के चलते वे परिवार स्वयं के गहरे संकट की स्थिति में है, जिसमे मौसम व प्राकृतिक आपदाएं और अधिक व्यवधान पैदा करती है | छोटे-२ कस्बों में रहने वाले ये लोग एक दिहाड़ी मजदूर की तरह कार्य करते हैं, जिनकी अपनी विवशताएं है और इन्ही परिस्थितियों में उन परिवारों के बच्चे इसी कार्य में लग जाते हैं | ऐसे ही सुविधाहीन बच्चों के लिए सदगुरु श्री भैय्युजी महाराज ने इनकी शिक्षा व्यवस्था व उज्जवल भविष्य सुनिश्चित करने के प्रण से एक विशेष विद्यालय शुरू करने की एक योजना तैयार की थी ।

संकल्प – ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले किसान व मजूदरों के बच्चों की शिक्षा व्यवस्था के लिए प्रयास किये जाने चाहिए तथा शिक्षा के प्रति जागरूकता होनी चाहिए, ताकि इस उपेक्षित वर्ग का भी गौरवशाली एवं स्वाभिमानी भविष्य तय हो सके ।

हमारे प्रयास – शिक्षा के प्रचार-प्रसार व ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा व्यवस्था दुरुस्त करने हेतु मध्य प्रदेश के धर जिले के ग्राम तोरनोद में सूर्योदय धरतीपुत्र ज्ञान प्रबोधनी विद्यालय स्थापित किया गया है, जिसमे आदिवासी व किसानों के बच्चों को स्तरीय शिक्षा प्रदान की जा रही है ।

चुनौतियाँ – हमारा प्रयास इस विराट देश के लिए बहुत छोटा है | हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती लोगों में शिक्षा के प्रति होने वाली उदासीनता है | हमें वह दूर करना है, लेकिन इसके लिए बहुत बड़े स्तर पर प्रयास करने की आवश्यकता है | हम मात्र एक प्रण के साथ प्रयास में लगे हैं | 

परिणाम एवं सार्थकता – सूर्योदय परिवार द्वारा स्थापित इस विद्यालय में आदिवासी व किसानों के बच्चे एक सकारात्मक वातावरण में शिक्षा ग्रहण कर रहे है | इस विद्यालय में विद्यार्थियों के लिए हर आवश्यक सुविधा की उपलब्धता है | आदिवासी किसानों के बच्चों को उनके गाँव में लाने ले जाने के लिए विद्यालय में वाहन सुविधा भी उपलब्ध है ।

उपलब्धियाँ – इस योजना के माध्यम से हम उस वर्ग तक शिक्षा पहुचाने में सफल हुए है, जिनके पास मूलभूत सुख सुविधाओं का भी आभाव है | किसानों व आदिवासी परिवारों में जहाँ अनेक समस्यों के चलते साधारण जीवन यापन करने में भी असमर्थ है उनके बच्चों की शिक्षा व व्यवस्था करने में समर्थ हो पाना ही हमारा सौभाग्य व उपलब्धि समझते है | 

आकड़े – इस विद्यालय में आदिवासी और किसानों के १५० बच्चे अध्ययनरत है |

अभियान से जुड़े – “सूर्योदय परिवार” द्वारा चलाये जा रहे इस अभियान से हर वर्ग एवं आयु के लोग जुड़ सकते है | यदि आप इस अभियान से जुड़ना चाहते है तो आप नीचे दिए गए नंबर पर सम्पर्क कर सकते हैं:



सम्पर्क सूत्र - 7722992266 - 9



एक स्वयंसेवी बनें अभी दान कीजिए डाउनलोड रिपोर्ट समीक्षा लिखे

परियोजना फोटो


मीडिया फोटो


© 2017 All Right Reserved