श्री सदगुरु दत्त धार्मिक एवं पारमार्थिक ट्रस्ट

कारागृह में धार्मिक वाचनालय एवं कंप्यूटर केंद्र

सन : 18-10-2002 स्थान : मध्य प्रदेश एवं महाराष्ट्र


मूल भावना – प्रत्येक व्यक्ति में अवगुण एवं सद्गुण दोनों होते है | अवगुणों के प्रभाव में आकर व्यक्ति अपराध करता है, परन्तु कुछ समय पश्चात् उसे अपने अपराध का बोध होने पर पश्चाताप भी होता है, वे ईश्वर से क्षमा याचना करते है | बहुत से बंदी बंदीगृह में ही अपनी आदतों में सुधार कर लेते है | बंदीगृह में यदि बंदियों को अध्यात्मिक साहित्य, सामाजिक उत्थान का साहित्य पढ़ने के लिए दिया जाता है जो उनकी मानसिकता में परिवर्तन होता है | वे बंदीगृह में रहकर भी अच्छा कार्य करते है | हमारे देश में बंदियों के उत्थान को लेकर अनेक कार्य किये जा रहे है | परम पूज्य गुरुदेव ने इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए कारागृह में धार्मिक वाचनालय एवं कंप्यूटर केन्द्रों की स्थापना की | 

संकल्प – कारागृह में सजा काट रहे व्यक्तियों के जीवन में अध्यात्म व शिक्षा के माध्यम से सकारात्मक बदलाव लाना ही इस योजना का संकल्प है | 

हमारे प्रयास – वर्ष २००२ में इस योजना का शुभारंभ किया गया था, जिसमें बंदियों की अध्यात्मिक चेतना को करने के लिए काराग्रहों में धार्मिक वाचनालयों की स्थापना की गई | साथ ही आधुनिक शिक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से काराग्रहों में कंप्यूटर केन्द्रों की स्थापना की गई | 

चुनौतियाँ – सूर्योदय परिवार अपने इस प्रयास में इस बात पर विशेष ध्यान रखता है, कि अपनी सजा पूर्ण करने के बाद इन लोगों को समाज में उचित स्थान दिलवा सके | इन व्यक्तियों के प्रति समाज की दृष्टि सदा ही पूर्वाग्रह से ग्रसित रहती है | यही मानसिकता हमारी इस योजना की सबसे बड़ी चुनौती है | जिसे दूर करने के लिए सूर्योदय परिवार हर संभव प्रयास करता है | समाज को यह समझना होगा कि अपने अपराध के लिए दी गई सजा को पूर्ण करने के पश्चात् कानूनन वह व्यक्ति समाज में रहने का समान अधिकार रखता है | 

परिणाम एवं सार्थकता – इस योजना के अंतर्गत धार्मिक वाचनालय एवं कंप्यूटर केन्द्रों की स्थापना करने के अलावा समय-समय पर सदगुरु श्री भैय्युजी महाराज की प्रेरणा से सूर्योदय परिवार द्वारा काराग्रहों में आध्यात्मिक एवं योग शिविर आयोजित किये जाते है | 

उपलब्धियाँ – इस योजना के अंतर्गत कारागृह में नियमित रूप से गुरुदेव के आध्यात्मिक व दर्शन से जुड़े व्याख्यान होते है | साथ ही गुरुदेव बंधियों के प्रश्नों के भी उत्तर देते है | प्रतिवर्ष योग शिविर का भी आयोजन किया जाता है | वर्ष २००२ में स्थापित कंप्यूटर केंद्र एवं धार्मिक वाचनालय का सफलता पूर्वक संचालन किया जा रहा है | 

आकड़े – वर्ष २००२ से अब तक २२ काराग्रहों में कंप्यूटर केन्द्रों एवं धार्मिक वाचनालयों की स्थापना की जा चुकी है | व नियमित रूप से स्वास्थ एवं योग शिविर भी आयोजित किये जाते है | 

अभियान से जुड़े – “सूर्योदय परिवार” द्वारा चलाये जा रहे इस अभियान से हर वर्ग एवं आयु के लोग जुड़ सकते है | यदि आप इस अभियान से जुड़ना चाहते है तो आप नीचे दिए गए नंबर पर सम्पर्क कर सकते हैं:



एक स्वयंसेवी बनें अभी दान कीजिए डाउनलोड रिपोर्ट समीक्षा लिखे

परियोजना फोटो


मीडिया फोटो


© 2017 All Right Reserved