श्री सदगुरु दत्त धार्मिक एवं पारमार्थिक ट्रस्ट

सूर्योदय अन्नक्षेत्र योजना

सन : 01-01-2001 स्थान : मध्य प्रदेश एवं महाराष्ट्र


मूल भावना –  हमारी संस्कृति में अन्नदान को महादान कहा गया है | यह हमारी धार्मिक परंपरा होने के साथ-साथ हमारा परम कर्त्तव्य भी है कि हम प्यासे को पानी और भूखे को भोजन प्रदान करें | धर्मशास्त्रों में अन्नदान को नित्य कर्म में सम्मिलित करने के लिए कहा है | दान करते समय यह नहीं सोचना चाहिए कि कितना दान कर रहे हैं | अपनी शक्ति के अनुसार एक मुट्ठी अनाज या भोजन का एक ग्रास देना भी पर्याप्त है | अन्न क्षेत्र के माध्यम से लोक कल्याण के साथ-साथ जनसहयोग और धार्मिक परंपरा निभाने का लाभ मिलता है | उत्सवों पर महाप्रसादी का आयोजन कर हम पुण्यों में श्री वृद्धि कर सकते हैं | एक साथ भोजन प्रसादी ग्रहण करने से ऊच-नीच, अमीर-गरीब का भेद मिट जाता है | सभी एक सूत्र में बंध जाते है | स्थान-स्थान पर भंडारा, महोत्सवों पर भंडारे का उद्देश्य यही होना चाहिए कि भूखे व्यक्ति को अन्न उपलब्ध हो तथा वह रोटी के लिए अनुचित कार्य न करे |  

संकल्प – हमारे पूर्वजों द्वारा स्थापित अन्नदान की परम्परा का यथावत निर्वहन करना व प्रत्येक भूखे व्यक्ति के लिए भोजन व्यवस्था करने का प्रयास करना ही इस योजना का संकल्प है |  

हमारे प्रयास – सूर्योदय परिवार द्वारा इंदौर, धार, अकोला, पुणे, सांगोला, खामगांव आदि सभी जगह नियमित रूप से प्रतिदिन भोजन व्यवस्था की जाती है एवं सभी स्थानों पर विशेष अन्नक्षेत्र की स्थापना भी की गई है |

चुनौतियाँ – इस अभियान की एक मात्र चुनौती यह थी कि कभी कोई आगंतुक व छुधाग्रस्त व्यक्ति के लिए भोजन किये बिना न जाए | सूर्योदय परिवार इतना सक्षम हो कि वह हर व्यक्ति के लिए भोजन उपलब्ध करा सके |

परिणाम एवं सार्थकता – सूर्योदय परिवार द्वारा विगत कई वर्षों से प्रतिदिन सैकड़ों लोगों के लिए भोजन व्यवस्था सुनिश्चित की जाती है | सूर्योदय अन्नक्षेत्र योजना के अंतर्गत कई निर्धन भाई-बहिन प्रतिदिन भोजन ग्रहण करते है |

उपलब्धियाँ – इस योजना की सबसे बड़ी उपलब्धि यही है, कि विगत कई बर्षो से एक परम्परा के तहत विशेष अन्नक्षेत्र में लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था की जाती है | और ईश्वर की कृपा से कभी कोई व्यक्ति निराश नहीं लौटता है |    

आकड़े – सूर्योदय परिवार द्वारा इंदौर, धार, अकोला, पुणे, सांगोला, खामगांव आदि जगहों पर प्रतिदिन २०० से ३०० व्यक्तियों को भोजन कराया जाता है तथा विशेष उत्सव जैसे श्री दत्त जयंती महोत्सव, गुरुपूर्णिमा महोत्सव, स्वामी श्री कृष्ण सस्वती महाराज उत्सव, सदगुरु श्री भैय्युजी महाराज के जन्मोत्सव व तथा सामूहिक विवाह उत्सव कार्यक्रमों में महाप्रसादी का निःशुल्क वितरण भी किया जाता है |   

अभियान से जुड़े – “सूर्योदय परिवार” द्वारा चलाये जा रहे इस अभियान से हर वर्ग एवं आयु के लोग जुड़ सकते है | यदि आप इस अभियान से जुड़ना चाहते है तो आप नीचे दिए गए नंबर पर सम्पर्क कर सकते हैं:



संपर्क सूत्र - 7722992266 - 8



एक स्वयंसेवी बनें अभी दान कीजिए डाउनलोड रिपोर्ट समीक्षा लिखे

परियोजना फोटो


मीडिया फोटो


© 2017 All Right Reserved