Deprecated: mysql_connect(): The mysql extension is deprecated and will be removed in the future: use mysqli or PDO instead in /home/parivarsuryoday/public_html/lib/config.php on line 24
सूर्योदय साधना
श्री सदगुरु दत्त धार्मिक एवं पारमार्थिक ट्रस्ट

सूर्योदय साधना

आत्मा की अनुभूति

आज तनावग्रस्त, भयग्रस्त समाज के लिए आत्मचिंतन, आत्मशुद्धि, आत्म संतुलन विशेष आवश्यक है | व्यक्ति को इस ओर प्रेरित करने के लिए योग आज अधिक प्रासंगिक है |


योग बिंदु को सिन्धु से मिलाता है | योग वह है, जो प्राणतत्व को प्रकृति से जोड़ता है और जो श्वासों की लय को नाद ब्रह्म में विलीन कर अदभुत आनंद की प्राप्ति कराता है | वह आनंद जो परमात्मा से एकाकार कराता है |


योग के माध्यम से योगी अंतर शुद्धि और बाह्य शुद्धि को देखते है | अंतर शुद्धि से आशय है विचारों की पवित्रता और बाह्य शुद्धि से आशय समाज में व्याप्त व्याभिचार, अनाचार को हटाना | योगी अपने आत्मबल से इस समाज में शुद्धि को संचारित करते हैं, और उसे मानवीय संस्कृति का एक आवश्यक अंग बना देते हैं | भोजन में पोषक तत्वों का समावेश करके शरीर को स्वस्थ रखा जाता है | उसी तरह योगी प्राणों को योग के माध्यम से पोषकता प्रदान कर उसे स्वस्थ रखते है | प्राणों में विशेष शक्ति का संचार ही आत्म उत्थान का मार्ग है |


नित्य ध्यान साधना द्वारा व्यक्ति अपने सदगुणों का विकास कर स्वयं परिवर्तन अनुभव करेगा | ध्यान एक अनुभूति का विषय है आंतरिक आनंद का विषय है, प्रत्येक व्यक्ति को अपने जीवन में अंतर के आनंद को प्राप्त करने के लिए ध्यान साधना करना चाहिए |


© 2018 All Right Reserved