Deprecated: mysql_connect(): The mysql extension is deprecated and will be removed in the future: use mysqli or PDO instead in /home/parivarsuryoday/public_html/lib/config.php on line 24
MISSION
श्री सदगुरु दत्त धार्मिक एवं पारमार्थिक ट्रस्ट

सूर्योदय परिवार

कार्यों को करने के लिए संकल्प आवश्यक है- भय्यूजी महाराज

हमारे देश का विकास तेज़ी से हो रहा है पर कितने ही काम ऐसे है जिसमें सब का सहयोग आवश्यक है । देश में जहां विकास हो रहा है। बड़े बड़े मॉल, सड़के, उँची बिल्डिंग, वस्तुओं का निर्यात हो रहा है वहीं पर हम देखते हैं कि अनेक वर्ग ऐसे है जो विकास की छाँव से कोसों दूर हैं । इसलिए गरीब और गरीब होता जा रहा है और अमीर और अमीर होता जाता है। विकास की दौड़ में कहीं ऐसा न हो कि हमारे हाथों से ‘मानवता धर्म’ की डोर छूट जाए। इसलिए हमें उन लोगों तक भी पहुँचना है जो अपने ही देश में सामान्य आवश्यकताओं से भी वंचित है।


सामान्य आवश्यकता रोटी, कपड़ा और मकान तो है ही, साथ ही वह व्यवस्था जो देश में रहने वाले बच्चों को और यहां के लोगों को स्वावलंबी बनाए, वह भी है । विकास की अंधी दौड़ में भागते हुए हमारे भीतर की संवेदनाएँ जो क्षीण होती जा रही हैं, उन्हें पुनः ऊर्जावान बनाने का अब समय आ गया है। तो आइए ! मैंने जो संकल्प लिए हैं, उनके साथ आपका भी सहयोग हो। सहयोग के लिए बहुत रुपयों की आवश्यकता नहीं है। सहयोग के लिए हमारी अपनी मानसिकता में परिवर्तन आवश्यक है। हम कार लेकर कहीं से गुज़र रहे हैं और कोई असहाय हमें दिख जाता है, तो हमारे हाथ उसकी सहायता के लिए उठ जाएं। एक बार सिर्फ एक बार हम उसके लिए सोचें !


देश में समस्याएं बढ़ती जा रही हैं। चाहे वह पर्यावरण की समस्या हो, जल की समस्या हो, अन्न के वितरण को लेकर हो, प्राकृतिक मार को सह रहे किसानों की हो या झोपड़ी में रह रहे उन परिवारों की, जिनके बच्चे साधारण सी आवश्यकता को पूर्ण करने के लिए अपना बचपन गँवा देते हैं। संस्कृति में नारी स्वतंत्रता की हम बात करते हैं; परन्तु क्या सचमुच हमारे यहाँ नारी स्वतंत्र और सुरक्षित है ? समाज के लोग उन स्त्रियों पर अत्याचार करते हैं जो मानसिक रूप से विक्षिप्त है। समाज उन लोगों को भी अपराधी दृष्टि से ही देखता है जो बरसों बन्दीगृह में सजा काट चुके हैं। इस दृष्टि के कारण हम अपराधों को जाने अनजाने में बढ़ाने का ही कार्य करते हैं।


हमें राष्ट्र रुपी ‘दत्तात्रेय’ का निर्माण करने के लिए सेवा, समर्पण, त्याग की संवेदनाओं को बढ़ावा देना होगा। निर्धन असहाय व्यक्तियों को सहारा देकर उन्हें देश के विकास की मुख्य धारा से जोड़ना होगा। फिर वह शिक्षा सम्बंधित कार्य हो, कृषि सम्बंधित हो , कुपोषित बच्चों के लिए हो, महिला सशक्तिकरण के लिए हो या वरिष्ठ नागरिकों के लिए। सहायता उनकी करें जिसे सचमुच आवश्यकता हो।


निर्धन निराश्रित वर्ग की सहायता के लिए मेरा संकल्प है कि निःशुल्क कार्य हो। इस हेतु इस वर्ष दस हज़ार बच्चों को शैक्षणिक सहायता दी जाएगी। भूमि सुधार अभियान किसानों के लिए आवश्यक है। सौ ग्रामों में भूमि सुधार अभियान चलाया जाएगा जिससे कृषक अपनी परम्परागत खेती से लाभान्वित हो सके। निर्धन कृषकों को निःशुल्क बीज वितरण। जल संधारण योजना अंतर्गत 100 तालाबों का निर्माण। किसानों के पशुओं के लिए वेटेनरी वाहन, पशुओं के लिए पानी की टंकियाँ। जीवदया अभियान के अंतर्गत पशुओं का टीकाकरण, पक्षियों के दाना-पानी हेतु पच्चीस हज़ार सकोरों का वितरण। जिन्होंने आत्महत्या की है, ऐसे किसान परिवारों के बच्चों को शैक्षणिक सहायता, सायकल वितरण। औषधि बैंक, अन्न बैंक, वस्त्र बैंक, पुस्तक बैंक के माध्यम से सहायता पहुँचाना।


नारी सशक्तिकरण हेतु देवदासियों की प्रथा से महिलाओं को मुक्त करना। उनका संरक्षण, भरण पोषण, मानसिक विक्षिप्त बहनों का संरक्षण। पचास हज़ार वरिष्ठ नागरिकों को हेल्थ कार्ड वितरण जिससे वे कम खर्च में अपना इलाज कर सके। मातृशक्ति सम्मान योजना का प्रारम्भ इसी वर्ष।


पर्यावरण शुद्धता के लिए बृहद स्तर पर वृक्षारोपण करना। देव वृक्षों का संवर्धन, रोपण तथा पितरों के नाम से पौधे लगाने के लिए जनमानस तैयार करना, जिससे वृक्षों के प्रति आदर भावना उत्पन्न हो। पर्यावरण शुद्धि के लिए स्वच्छता पर ध्यान देने का कार्य संस्था द्वारा किया जाएगा। ग्रामों में शौचालयों का वितरण करना। मन्दिर परिसर, तीर्थ परिसर, स्कूल परिसर में अधिक से अधिक वृक्ष लगाकर प्रदूषण मुक्त रखना।


मन की प्रसन्नता और शान्ति के लिए दर्यापुर, अम्बेजोगई, खामगांव में ध्यान केन्द्रों की स्थापना होगी। मध्यप्रदेश में सूर्योदय बालगृह एचआईवी बच्चों के लिए, कृषितीर्थ योजना किसानों के लिए, भारत भविष्य आधार योजना पर कार्य हो रहा है जिसमें निर्धन एवं गरीब बस्तियों, फूटपाथ के बच्चों को शिक्षा, खेल, विविध गतिविधियों का प्रशिक्षण देकर उनके ज्ञान का विस्तार किया जाएगा। साथ ही कारावास से मुक्त होने वाले बन्दियों को पूजा पाठ, हवन, कम्प्युटर कार्य आदि सिखाकर, उनके मनोबल को बढ़ाकर, उन्हें स्वावलंबी बनाने की योजना शीघ्र क्रियान्वित की जा रही है।


महाराष्ट्र के संगोला, इंदापुर, तुलजापुर में गौशाला, पारायण हॉल, वृद्धाश्रम, अनाथाश्रम, सम्मिश्रण स्कूल की योजना पर इसी वर्ष शीघ्र ही कार्य होगा। समाज में ऐसे अनेक क्षेत्र हैं, जिनके लिए मुझे कार्य करना है और मैं कार्य करना चाहता हूँ। देश का युवा इस और ध्यान दे तथा सहयोग करें तो यह कार्य हम आसानी से कर सकते हैं। संकल्पों को पूर्ण करने के लिए एक विचार के साथ व्यवस्था और व्यवस्था को पूर्ण रूप देने के लिए श्रम दान, अर्थ दान, विचार दान की आवश्यकता होती है। युवा चाहे तो सब कुछ कर सकता है। मुझे पूर्ण विश्वास है कि यह कार्य पूर्ण होंगे।


जय हिन्द, जय भारत !!


© 2019 All Right Reserved