श्री सदगुरु दत्त धार्मिक एवं पारमार्थिक ट्रस्ट

सूर्योदय परिवार

सूर्योदय परिवार : एक संगठन

सूर्योदय परिवार सात्त्विक, कर्मशील, सेवाभावी तथा राष्ट्रहित को समर्पित विशाल साधक-समूह के साथ उतरोत्तर बढ़ते हुए राष्ट्र के नव निर्माण का आधार बनता जा रहा है | सद्गुरु श्री भय्यूजी जी महाराज के मार्गदशन में सेवारत सूर्योदय परिवार ने अपनी स्थापना के १७ वर्ष सफलतापूर्वक पूर्ण कर लिए हैं | सूर्योदय परिवार की स्थापना सद्गुरु ने २१ मार्च १९९९ में की थी | आज यह ‘परिवार संस्था’ अनेक सेवा प्रकल्प संचालित कर रही है | “हमारा धर्म मानवता, हमारी सेवा राष्ट्रीयता” सद्गुरु श्री भय्यूजी जी महाराज के इस सन्देश के, देश के ग्रामों तक क्रियान्वयन निमित्त सूर्योदय परिवार संकल्पित है |


सूर्योदय परिवार के लिए सद्गुरु के विचार गीता की तरह प्रेरक हैं और अनेक युवा इनसे प्रेरित हो संगठित रूप से जनकल्याण के कार्य करते हैं | फिर वह जल-संचय के लिए तालाबों का निर्माण हो या निर्धन कृषकों के लिए बीज वितरण | प्राकृतिक आपदाओं से ग्रस्त तथा निर्धनता से त्रस्त किसानों के अन्तर में सद्गुरु के विचार ऊर्जा का कार्य करते हैं | सद्गुरु ने कहा है, “तुममें कार्य करने की शक्ति और साहस है, उसे विकसित करो | तुम्हारे पास अनेक अवसर हैं, तुम्हें उन्हें खोजना है | कार्य की सफलता तुम्हारी प्रतीक्षा कर रही है, आत्मबल से आप अपना और अपने परिवार का ही नहीं; अपितु सम्पूर्ण मानव जाति का कल्याण कर सकते हैं |


हमारी पवित्र संस्कृति हमारे इस देश का आधार स्तम्भ है | संस्कृति ही हमारे आदर्शों का निर्माण करती है | एक सशक्त राष्ट्र के निर्माण में संस्कृति की महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है | इसलिए युवावर्ग का हमारी संस्कृति से परिचय होना अतिआवश्यक है; क्योंकि किसी राष्ट्र के युवा ही उस राष्ट्र के भविष्य की नींव होते हैं | आज के इस भौतिक युग में युवा प्रायः भ्रमित होकर गलत राह का चुनाव कर लेते हैं; किन्तु उन्हें सही राह दिखाकर, उनकी युवा शक्ति से उनका परिचय कराया जा सकता है, जिसका योगदान राष्ट्रहित में विशिष्ट भूमिका निभा सकता है | इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए सद्गुरु श्री भय्यूजी महाराज के मार्गदर्शन में संचालित सूर्योदय ट्रस्ट सदैव ही युवाओं को जागृत करने हेतु प्रयासरत रहता है |


सूर्योदय परिवार समाज व राष्ट्रहित में कार्य करने हेतु बनाया गया एक ऐसा आधार है, जिसके माध्यम से जनता में संविधान के प्रति जागृति लाना, उपेक्षित पारधी समाज के बच्चों को आश्रमशाला में नियमित शिक्षा के साथ ही वेदों-पुराणों के अध्यापन से संस्कृति की अनमोल धरोहर की ओर मोड़ना, सांगोला में ज्ञान मंदिर द्वारा विकासधारा से दूर रहे बच्चों को शिक्षा देना, विविध प्रकार की छात्रवृत्ति के माध्यम से, प्रत्येक स्तर के बच्चों को छात्रवृत्ति के लिए प्रेरित करना जैसे विभिन्न सेवा-कार्यों का संचालन किया जाता है, जो निःसंदेह राष्ट्र के आने वाले कल को एक सशक्त आधार प्रदान करने का सुदृढ़ चरण है |


सूर्योदय परिवार का लक्ष्य समाज व राष्ट्र के हित में अपने सेवाकार्यों द्वारा महत्त्वपूर्ण योगदान देना है | न केवल शिक्षा, अपितु जल-संधारण, पशु-संवर्धन, पर्यावरण सुरक्षा, कला-संस्कृति, अन्य क्षेत्र व आजीविका (रोजगार) से सम्बंधित क्षेत्रों में राष्ट्र के विकास की आशा के साथ कार्य करना है | एक आदर्श समाज ही एक आदर्श राष्ट्र का निर्माण करता है और यह तभी सम्भव है, जब हमारे विचारों में आदर्श भाव विद्यमान हो | सूर्योदय परिवार सदैव सद्गुरु श्री भय्यूजी महाराज के मार्गदर्शन में आदर्श विचारों से सुसज्जित एक आदर्श समाज की संरचना तथा राष्ट्र के नव निर्माण हेतु प्रयासरत रहेगा और इस कार्य में सूर्योदय परिवार ट्रस्ट को प्राप्त हुआ जन सामान्य का स्नेह और सहयोग अतुलनीय है, जिसकी सहायता से आज सूर्योदय परिवार एक विशाल परिवर्तन की आधारशिला रखने में सक्षम हुआ है |


विनम्र निवेदन :

जब किसी व्यक्ति विशेष द्वारा बड़े परिवर्तन की आशा के साथ, किसी एक सकारात्मक विचार का जन्म होता है, तो वह विचार मात्र एक विचार ही होता है | इस विचार रूपी स्वप्न को मूर्तरूप देने हेतु सार्थक प्रयासों की आवश्यकता होती है; परन्तु एक बड़े परिवर्तन को आधार रखकर जो विचार उत्पन्न हुआ है, उसे साकार करने हेतु किसी एक व्यक्ति का प्रयास पर्याप्त नहीं होता | ऐसा ही एक विचार सद्गुरु श्री भय्यूजी महाराज के अन्तर्मन में प्रस्फुटित हुआ, जिसका आधार है ‘राष्ट्र का नव निर्माण’ |


निःसन्देह राष्ट्र का नव निर्माण कोई सरल कार्य नहीं है, जिसे कोई एक व्यक्ति सम्भव बना सके ! यही कारण है कि सूर्योदय परिवार के माध्यम से ‘सूर्योदय ट्रस्ट’ की स्थापना की गई, जिसके अन्तर्गत राष्ट्रहित में कार्य करने की भावना को संजोए सूर्योदय परिवार में सम्मिलित सम्मानीय सदस्यों के अतुलनीय आर्थिक एवं शारीरिक सहयोग से विभिन्न सेवा-प्रकल्पों का संचालन किया जाता है | राष्ट्र के कई नागरिक, जिन्हें जीवन की मुख्यधारा के साथ पग से पग मिलाकर चलने की आवश्यकता है, उन्हें इन योजनाओं का लाभ प्राप्त हुआ है; किन्तु अभी भी ऐसे कई लोग विद्यमान हैं, जिन्हें इन प्रकल्पों का लाभ प्राप्त नहीं हो पाया है |


इन योजनाओं अर्थात् सेवा-प्रकल्पों का लाभ राष्ट्र के कोने-कोने तक पहुँचाने के लिए सूर्योदय परिवार के विस्तार की आवश्यकता है | यदि आपके अन्दर भी राष्ट्रसेवा की भावना विद्यमान है तो आप सूर्योदय परिवार में सम्मिलित होकर इस परिवार को और प्रभावशाली बना सकते हैं | आप जो भी संकल्प लेते हैं उसे पूरी निष्ठा के साथ पूरा करें ! चाहे वह किसी एक छात्र को शिक्षा प्रदान करने का संकल्प हो अथवा वृक्षारोपण का या कोई अन्य संकल्प | किसी भी रूप में अपनी भागीदारी के साथ आप सूर्योदय परिवार के सदस्य के रूप में राष्ट्रसेवा में संलग्न हो सकते हैं |

© 2017 All Right Reserved